अटक रहा यदि आप का कोई सरकारी कार्यालयो का काम, तो इस...

अटक रहा यदि आप का कोई सरकारी कार्यालयो का काम, तो इस अनूठे फंडे से होगा फटाफट अंजाम

483
SHARE

Nagda(विभोर चोपड़ा) mpnews24|अमूमन लोग अपने कामके लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर काटते रहते है । कई बार तो संतोषजनक जवाब भी नहीं मिलता है। ऐसी स्थिति में  कोसने के अलावा कुछ नहीं मिलता है। यदि आप का भी कोई सरकारी कार्यालयों में काम अटक रहा है , तो इस फौर्मुले को अपना कर फाईल को आगे बढाक़र काम को फटाफट करवा सकते हैं। तरीका बहुत ही आसान है। आप आजमा कर देखिए किस प्रकार से आप का कार्य होगा। इस तरीके से आप अपना कार्य पंचायत  से लेकर नपा, किसी भी केंद्र एवं राज्य सरकार के कार्यालय यहां तक की प्रधानमंत्री एवं राष्टपति भवन से भी अपने कार्य को गति दिला सकते है| आप लोगों ने सूचना के अधिकार का नाम तो बहुत सुना है, लेकिन बहुत कम लोग इसका उपयोग कर रहे है। लोकतंत्र में जनता का यह एक ऐसा हथियार जिसके माध्यम से आप को इंसाफ मिलेगा बशर्त आप इसका उपयोग करें|

ऐसे करे अपने अटके कार्य

01आप ने किसी कार्यालय में यदि किसी कार्य के लिए आवेदन दिया और उसका कोई परिणाम सामने नहीं आ रहा है तो इस मामले में सीधे सूचना का अधिकर लगाए। यह लगाना बहुत सरल है। एक निर्धारित फार्म  पर अपना नाम एवं पता लिखकर जो आप का काम अटका पड़ा है उसकी प्रगति के बारे मेें जानकारी मांग ले। इस कार्य का संदर्भ देकर नोट शीट भी मांग सकते है। शुल्क मात्र 10 रूपए देना है। आप को प्रगति की जानकारी मिलेगी उसका शुल्क मात्र 2 रूपए प्रति पेज लगेगा।

02 यदि अटका कार्य नहीं हो रहा तो उच्च अधिकारी को एक शिकायत करें। फिर इस शिकायत की प्रति लगाकर उस अधिकारी से सवाल पूछे कि उस शिकायत पर जो कार्रवाई हुई उसका विवरण दे। बकायदा आप को अधिकारी 30 दिनों में वस्तुस्थिति बताने के लिए बाध्य होगा।

03 यदि आपने कोइ्र सूचना अधिकारी लगाया और आपके कार्य की जानकारी मिल गई और उसमे बताया गया कि इस स्टेज तक कार्य हुआ है तो बाद में इस पत्र को फिर आधार बनाकर प्रत्येक दिन की प्रगति मांग ले, हमारा विश्वास है कि आप का अटका कार्य होगा।
04  कई बार अधिकारी अपने कर्तव्य से पल्ला झाडऩे के लिए जानकारी समय पर नहीं देते है, ऐसी स्थिति में उच्च अधिकारी से अपील तो करे साथ ही कार्यालयो मेें अटके पड़ सूचना अधिकारी के आवेदनों की जानकारी अलग से आवेदन लगाकर मांग ले। आपका पैडिग़ का जवाब देने के लिए अधिकारी के पास कोई जवाब नहीं होगा|