खाचरौद-मुनि एवं साध्वी मण्डल ने पूरे ठाठ-बाट के साथ किया नगर प्रवेश

खाचरौद-मुनि एवं साध्वी मण्डल ने पूरे ठाठ-बाट के साथ किया नगर प्रवेश

52
SHARE

Kachrod|Mpnews24| ‘‘मैं तो सजाऊं घर आंगनीया, गुरूजी पधारे म्यारे आंगनीय’’ के उद्घोष के साथ आज 5 जुलाई को प्रातः 8ः30 बजे जावरा रोड़ स्थित जैन दादावाड़ी से मुनिराज श्री दिव्यानन्द विजय जी मसा आदि ठाणा 5 एवं साध्वी श्री मुक्तिरत्ना श्री जी मसा आदि ठााणा 5 का भव्य मंगल प्रवेश हुआ। विधायक दिलीपसिंह शेखावत, पूर्व विधायक दिलीपसिंह गुर्जर, नपा अध्यक्ष श्रीमती कमलेश शर्मा, सांसद प्रतिनिधि अनिल शर्मा के साथ ही हजारों समाजजनों की आगवानी में महाराजश्री द्वारा तुंग्यापुरी नगरी खाचरौद में मंगल प्रवेश किया। जैसे ही मुनिराज ने नगर की धन्य धरा पर अपने चरण रखे सम्पूर्ण गगन जय-जय गुरूदेव के जयकारों से गुंजायमान हो गया। सभी समाजजन गुरूभक्ति में लीन नजर आएं।

इन स्थानों से निकला चल समारोह

प्रातः 9ः00 बजे पुराना बस स्टेण्ड से प्रारम्भ हुए चल समारोह में सबसे पहले समाज के नन्हे-नन्हे बच्चों का अश्वरोही दल धर्मध्वजा लिये चल रहा था, उनके पीछे आदिवासी बैंड, उसके बाद उनके पीछे बालिका मण्डल के साथ ही जयंत ज्योति बहु परिषद, त्रिशला मण्डल, अणु मण्डल, सौभाग्य महिला मण्डल, समता मण्डल सहित विभिन्न मण्डलों की महिलाएं सिर पर कलश धारण किए चल रही थी, उसके बाद रथ में आचार्य देवेश श्रीमद् विजय राजेन्द्र सूरीश्वर जी मसा का चित्र विराजमान था, इनके पीछे आहोर का रजवाड़ी बैंड, शहनाई एवं शंखनाद के बाद बैंड बाजें एवं सैकड़ो समाजजनों के साथ मुनि मण्डल चल रहे थे एवं इनके पीछे साध्वी मण्डल एवं महिला वर्ग चल रहा था। मुनिराज जिस गली मोहल्ले से गुजरे वहां का हर कोई व्यक्ति अपने घरों से बाहर आकर मुनिश्री के दर्शन लाभ लेने को उत्सुक दिखा वहीं समस्त जैन समाजजनों के अतिरिक्त कई अन्य समाजजनों द्वारा भी अपने-अपने घरों एवं प्रतिष्ठानों के बाहर गवली कर उनकी आगवानी की। चल समारोह पुराना बस स्टेण्ड से प्रारम्भ हो श्री लक्ष्मीनाथ मंदिर चैराहा, आदेश्वर गली, शुक्रवारिया बाजार, अन्नपूर्णा मार्ग, सुभाष मार्ग, चबुतरा चैराहा, अनन्तनारायण मंदिर चैराहा, गणेश देवली चैराहा, सागरमल मार्ग, विक्रम मार्ग, मुखिया गली, लीमड़ावास सहित नगर के प्रमुख मार्गो से होता हुआ महावीर स्वामी मार्ग लीमड़ावास स्थित श्री राजेन्द्र सूरी जैन पौषधशाला पहुंच समाप्त हुआ। जहां पर धर्मसभा का आयोजन किया गया। स्वागत गीत पल्लवी सुराणा, प्रतिभा जैन एंव त्रिशला मण्डल ने प्रस्तुत किया। मुनि श्री दिव्यानन्द विजय जी मसा द्वारा धर्मसभा को संबोधित करते हुए कहा कि चातुर्मास के दौरान अपने भावों की शुद्वी कर मोक्ष मार्ग पर चलने की सीख श्रावक-श्राविकाओं को दी। इस दौरान चार माह तक वाचन होने वाले धर्म शास्त्रों का चढावा भी बोला गया। जिसका लाभ जालोर निवासी मेहता परिवार ने लिया। प्रथम गवली एवं मंगल कलश का लाभ लालचंद्र बालचंद्र भण्डारी परिवार द्वारा लिया गया। धर्मसभा के अंत में मुनि श्री द्वारा समस्त समाजजनों को मांगलिक श्रवण कराया गया। संचालन पारस मेहता द्वारा किया गया। अंत में नवकार मंत्र आराधकों के स्वामी वात्सल्य का आयोजन स्थानीय मोरसली धर्मशाला में चार्तुमास समिति द्वारा किया गया।

इन स्थानों पर हुआ मुनिश्री की आगवानी एवं आर्शिवाद प्राप्त किया

इन स्थानों के श्रीसंघ पहुंचेमुनिश्री की अगुवाई करने राजस्थान के भीनमाल, जालोर, आहोर, मुम्बई के साथ ही थराद, इंदौर, उज्जैन, बड़नगर, महिदपुर रोड़, महिदपुर, जावरा, बड़ावदा सहित कई अन्य शहरों के श्रीसंघों द्वारा नगर पहुंच मुनिश्री की आगवानी एवं आर्शिवाद प्राप्त किया।

प्रशासनिक व्यवस्था चाक चैबंद रही

प्रशासनिक व्यवस्था चाक चैबंद निकले चल समारोह के दौरान पूरे समय प्रशासनिक व्यवस्था चाक चैबंद रही। थाना प्रभारी दिनेश वर्मा अपनी पूरी टीम के साथ सम्पूर्ण चल समारोह एवं चल समारोह मार्ग की पूरे समय पैट्रोलिंग करते नजर आएं। वहीं नगर के प्रमुख मार्गो एवं चैराहो पर भी पुलिस प्रशासन द्वारा अच्छी तरह से व्यवस्था संभाली जिस कारण सम्पूर्ण चल समारोह में कहीं भी व्यवधान उत्पन्न नहीं हुआ। सम्पूर्ण जैन समाज द्वारा पुलिस प्रशासन का आभार प्रकट किया।