नागदा- आख़िर क्यो समर्पित है 3 दिसंबर -जीरादेई गाँव के एक विख्यात...

नागदा- आख़िर क्यो समर्पित है 3 दिसंबर -जीरादेई गाँव के एक विख्यात शख्स को

160
SHARE

Nagda | (विभोर चोपड़ा)Mpnews 24 | भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ० राजेन्द्र प्रसाद का जन्म दिवस है। उनका जन्म 3 दिसंबर, 1884 को बिहार के एक छोटे से गांव जीरादेई में हुआ था। उनके जन्म की वर्षगाँठ 3 दिसंबर को अधिवक्ता समुदाय द्वारा प्रत्येक वर्ष अधिवक्ता दिवस के रूप में धूम-धाम से मनाया जाता है।

क्यो विख्यात है राजेन्द्र प्रसाद

डॉ० राजेन्द्र प्रसाद स्वयं एक विद्वान अधिवक्ता थे। भारतीय स्वाधीनता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से थे जिन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में प्रमुख भूमिका निभाई।  वे स्वतंत्र भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे।  उन्हें राजेन्द्र बाबू या देशरत्न कहकर पुकारा जाता था।  भारत सरकार द्वारा वर्ष 1962 में उन्हें देश के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

 अधिवक्ता दिवस पर ये बोले

चाहे फीस मिले या ना मिले बिना डर के अपना काम निर्भीक होकर करना चाहिए|
(अधिवक्ता मदन लाल मोर्य, प्रेसीडेंट बार असोसियेशन नागदा)

विधि का शाशन बनाए रखने मे अपना योगदान प्रदान करना तथा विशेष परिस्तितियो मे ग़रीब व सोशित वर्ग की सहायता करना ( शेलेन्द्र चौहान अधिवक्ता)

समाज मे ग़रीबो व ज़रूरत मन्दो को इंसाफ़ दिलाने मे मदद क्रना चाहिए( नाहारू ख़ान अधिवक्ता)