नागदा-दंबग विधायक का कड़ा रूख महिदपुर रोड निमार्ण की देरी को लेकर...

नागदा-दंबग विधायक का कड़ा रूख महिदपुर रोड निमार्ण की देरी को लेकर अधिकारीयों की उतारी लू , शीघ्र निमार्ण के लिए दिए निर्देश

214
SHARE

Nagda|Mpnews24| बस स्टेण्ड से लेकर महिदपुर नाका पहुंच मार्ग तक बनने वाली उत्कृष्ट सडक़ का मामला कई दिनों से गति नहीं पकड़ पा रहा था। जिन लोगों ने उक्त मार्ग की सडक़ के निकट अतिक्रमण कर अपने पक्के व कच्चे निर्माण कर रखे थे उनको हटाने को लेकर कई पेच उलझे हुए थे। लोक निर्माण विभाग व सडक़ का निर्माण करने वाले ठेकेदार ने सडक के बीच सेंटर से दोनो साईट 10-10 मीटर की चौडाई को चिन्हित करते हुए यहां से अतिक्रमण हटाने की रूपरेखा बनाई थी। कुछ लोगों ने तो अपनी स्वेच्छा से अतिक्रमण हटा लिए थे। शेष अतिक्रमण अभी भी यथावत है। एसी स्थिति में सडक़ निर्माण कार्य में होने वाली देरी को ध्यान में रखते हुए विधायक दिलीपङ्क्षसह शेखावत के द्वारा शनिवार को स्थानीय विश्राम गृह पर अधिकारियों की एक महत्वपूर्ण बैठक ली । जिसमें लोक निर्माण विभाग के एसडीओ गौतम अहिर, नागदा एसडीएम रंजनीश श्रीवास्वत, पीडब्यूडी के अरूण दुबे ,नगर पालिका के आबिद अली आदि प्रमुख रूप से मौजूद थे।

विधायक ने दिए निर्देश

सडक़ निर्माण के मुद्दे को लेकर अधिकारियों व विधायक के बीच विस्तार से चर्चा हुई। यहां आंधे घ्ंाटे से भी अधिक चली उक्त चर्चा बैठक में श्री शेखावत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि उत्कृष्ट सडक़ के निर्माण कार्य की गति काफी धीमी है जबकि यह काम गति के साथी शीघ्र पूरा होना चाहिए उन्होने कहा कि डेढ माह के भीतर सडक़ निर्माण के कार्य को पूर्ण किया जाए । अधिकारियों ने दी अपने अपने तर्क व निर्माण कार्य में आने वाली बाधाओं का जिक्र किया। लेकिन सख्त निर्देश देते हुए श्री शेखावत ने कहा कि हर हाल में समय सीमा के भीतर निर्माण कार्य को पूर्ण करे।

अधिकारियों ने मौका स्थल का किया निरीक्षण

बैठक की समाप्ति के पश्चात लोक निर्माण विभाग के अधिकारी व नगर पालिका के अधिकारियों ने उत्कृष्ट सडक़ निर्माण स्थल की वस्तु स्थिति को परखा। यहां नगर पालिका एवं लोक निर्माण विभाग व सडक़ निर्माण के कार्य को अंजाम देने वाले ठेकेदार के बीच सडक़ की चौडाई को लेकर तर्क वितर्क भी हुए। लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों का कहना था कि उनके द्वारा सडक़ निर्माण के कार्य को लेकर सडक़ के बीच सेंटर से दोनों साईड की दस-दस मीटर के स्थान को चिन्हित कर यहां चुने की लाईन डाली गई है। जबकि नपा के अधिकारियों का कहना था कि पाइप लाइन डालने के लिए उन्हे डेढ मीटर जगह की आवश्यकता है। उसे भी पूरा किया जाए यहां तर्क और वितर्क के बीच लोक निर्माण विभाग ने स्पष्ट कर दिया कि उनके मापदण्ड के अनुरूप निशान लगाकर जगह को चिन्हित किया है अगर नगर पालिका को पाइप लाईन डालने के लिए अतिरिक्त डेढ मीटर की जगह चाहिए तो वह खुद स्थान को चिन्हित करे। बाद में नगर पालिका के लोगों के द्वारा पाइप लाइन डालने के लिए जगह चिन्हित करते हुए लाइन खीचने के कार्य को अंजाम दिया। जिसको लेकर यहां रहने वाले लोगों व नपा के जवाबदारों के बीच तकरार भी हुई। नागरिक का कहना है कि जो स्थान नपा के द्वारा चिन्हित किया जा रहा है क्योंकि चिन्हित स्थान तक उनके मकान की रजिस्ट्रीयां है और वह उसका मालिकाना हक रखते है एसे में वह किसी भी कीमत पर उक्त जगह का उपयोग पाइप लाइन डालने के लिए नहीं करेगे और न ही अपने स्वामित्व के स्थान को तोडेगे। कुल मिलाकर उत्कृष्ट सडक के निर्माण की बाधाए अभी भी बरकरार बनी हुई है। आने वाले दिनों में आगे की कार्रवाही किस दिशा को तय करेगी समय ही बताएगा।

यह भी थे मौजूद

नगर पालिका के लोगों के द्वारा जगह चिन्हित करने को लेकर उक्त मार्ग के रहने वाले लोगो के बीच तकरार के दौरान कांग्रेस पार्षद सुबोध स्वामी भी मौके पर पहुंच गए थे। उन्होने भी अधिकारियों से उत्पन्न समस्या के निराकरण को लेकर अपनी बात रखी।