नागदा में एकत्रित होकर बताया उनको एक टेकरी का रहस्य

0
269

नागदा एमपीन्यूज 24, सितंबर 27। पाड़ल्या कला में एक साथ लोग एकत्रित हुए ओर एक टेकरी का रहस्य बताया गया। प्रसंग था विश्व पर्यटन दिवस का। माधव बाल संस्कार केंद्र में बच्चों को भी आंमत्रित किया गया। इस अवसर पर यह बताया गया कि नागदा का नाम कैसे पड़ा। बच्चों ने भी कई जिज्ञासा भरे सवाल किए। जानकारी यह दी गई कि महाभारत काल में नागदा में एक यज्ञ हुआ था। जिसमें नागों की आहुतियां दी गई थी। जिस जगह पर यज्ञ हुआ वह टेकरी आज भी है। जिसमें सर्प के अवशेष मिलते हैं। कार्यशाला में संस्कार केंद्र संचालक चंद्र प्रकाश सोलंकी ने प्रकाश डाला। जानकारी बंटू बोडाना चंद्रवंशी ने दी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY