नागदा-कांग्रेसी गैस सिलेण्डर के नाम पर जनता को गुमराह कर सस्ती लोकप्रियता...

नागदा-कांग्रेसी गैस सिलेण्डर के नाम पर जनता को गुमराह कर सस्ती लोकप्रियता हासिल कर रहे है

153
SHARE

Nagda |Mpnews24| भारतीय जनता पार्टी उज्जैन जिला ग्रामीण के मंत्री अशोक मावर ने एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि देश, प्रदेश एवं नगर में सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के चक्कर में कांग्रेस के लोग बढे हुए गैस सिलेण्डर के मुल्य 86 रूपये को लेकर लोगो को भ्रमित करने में लगे हुए है। जबकि वर्तमान में जिन लोगो ने स्वेच्छा से गैस की सब्सीडी छोडी उन लोगो को बढे हुए मूल्य का भार पढेगा न कि गरीब वर्ग व मध्यम वर्ग के लोगो को इसका कोई नुकसान नहीं होगा।

अब सबसिडी 355 रूपये

पहले उपभोक्ता के खाते में सबसिडी के रूप में 269 रूपये आती थी जो अब 86 रूपये बढने के बाद 355 रूपये खाते में आयेगी। ऐसे में उपभोक्ता की जेब पर कौन सा असर पडा है ? मगर कांगे्रसजनो द्वारा गरीबो के नाम पर, जिन अमीरो ने सबसिडी छोडी थी तथा जिन्हे बढा हुआ मूल्य देना है, उनके लिये विरोध कर रहे है। लेकिन इनकी जब केन्द्र में कांग्रेस सरकार थी तब इनके शासन काल में गरीब उपभोक्ता को भी 6 सिलेण्डर के बाद में 900 रूपये का सिलेण्डर लाईन में लगकर खरीदना पडा था।

एक फोन पर सिलेण्डर बुकींग

जबकि आज एक फोन पर सिलेण्डर की बुकिंग होकर सिलेण्डर घर पहुंच जाता है। इन लोगो द्वारा सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिये गरीबो को माध्यम बनाया जाता है जबकि बढे हुए मूल्य की तकलीफ अमीरो को है। लेकिन ये लोग गरीबो के नाम पर राजनीति कर रहे है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा जब नोटबन्दी की गई थी तब भी इन्होने गरीबो को माध्यम बनाकर राजनीति कर रहे थे जबकि तकलीफ किन पूंजीपतियों को हुई थी यह सब जनता जानती है। जबकि नोटबन्दी के असर से 200 रू किलो बिकने वाली दाल कैसे 70-80 रूपये हो गई। साथ ही कई तरह की रोजमर्रा की वस्तुओं के भाव नोटबन्दी के पश्चात कम हुए है जिससे गरीब लोगो को फायदा हुआ है।