नागदा-ग्रेसिम का फिस घोटाला, कलेक्टर ने हडकाया, फिस वृद्धी वापस लेने के निर्देश

0
93

Nagda|Mpnews24|आदित्य बिरला पब्लिक स्कूल, आदित्य बिरला सीनियर सेकेण्डरी स्कूल एवं आदित्य बिरला हायर सेकेण्डरी स्कूल द्वारा शैक्षणिक सत्र २०१५-१६ व २०१६-१७ में की गई फीस वृद्धि को कलेक्टर उज्जैन व जिला शिक्षा अधिकारी ने विधिविरूद्ध बताते हुए अवैध करार दिया है।

क्या है मामला

आदित्य बिरला समूह द्वारा द्वारा संचालित स्कूलो के ४० अभिभावकगणो ने एकत्र होकर दिनेश दुबे के नेतृत्व में जिला कलेक्टर उज्जैन एवं जिला शिक्षा अधिकारी उज्जैन को स्कूलों की अवैध फीस वृद्धि एवं स्कूलों द्वारा बढ़ती जा रही अनियमितताओं के खिलाफ शिकायत की थी। इस दौरान प्रधानमंत्री एवं केन्द्रीय मंत्री डॉ. थावरचंद गेहलोत को लिखित व फैक्स के माध्यम से अभिभावकणाो द्वारा शिकायत की गई थी। अभिभावक दिनेश दुबे ने बताया कि शिकायत के जवाब में कलेक्टर द्वारा प्रेषित पत्र क्रं./शिक्षा/२०१७/३६३ उज्जैन ५ अगस्त २०१७ के माध्यम से दी गई।

जाँच में समिति ने माना शुल्क वृद्धि को अवैध

१८ अप्रैल २०१७ को विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी, विकासखण्ड खाचरौद के नेतृत्व में एक गठित जांच दल ने तीनो स्कूलों का निरीक्षण किया। तीनो स्कूलो का पंचनामा बनाया गया एवं तीन वर्ष के रिकार्ड तलब किये गये। कलेक्टर उज्जैन, जिला शिक्षा अधिकारी उज्जैन ने तीनो स्कूलों द्वारा की गई बेतहाशा फीस वृद्धि एवं अनियमितताओं की गंभीरता से जांच की । कलेक्टर उज्जैन ने अभिभावको की उक्त स्कूलो द्वारा की जा रही आर्थिक लूट के दर्द को समझा। कलेक्टर महोदय ने भी जांच के आदेश दिये। जांच में यह सिद्ध हुआ कि तीनो स्कूलों द्वारा की गई फीस वृद्धि विधि विरूद्ध होकर पूर्णत: गलत है। कलेक्टर महोदय ने साथ में यह भी कहा है कि तीनों स्कूलों ने अभिभावक शिक्षक संघ का गठन नहीं किया है। फीस वृद्धि  हेतु शिक्षक पालक संघ की बैठक का आयोजन भी नहीं किया है। फीस वृद्धि हेतु ना ही कोई ठहराव प्रस्ताव या परामर्श की जानकारी अभिभावकगणो को दी गई और न ही जिला शिक्षा अधिकारी से फीस वृद्धि हेतु कोई अनुमति ली गई। तीनो स्कूलो द्वारा की गई फीस वृद्धि पूर्णत: अवैध है।

स्कूलो मेंं शिक्षक पालक संघ का गठन ही नहीं

जिला कलेक्टर उज्जैन जो रिर्पोट आयुक्त लोक शिक्षण संचालनालय भोपाल को भेजी है उसमें इस बात का भी उल्लेख किया गया है कि आदित्य बिरला समूह द्वारा नागदा में संचालित स्कूलों में आज तक शिक्षक पालक संघ का भी गठन नहीं किया गया है। जबकि शिक्षक पालक संघ के अनुमोदन के बाद ही किसी भी विद्यालय में शुल्क वृद्धि का निर्णय लिया जा सकता है। ऐसे में विद्यालयों में की गई शुल्क वृद्धि अवैध है।

स्कूल में लगा मोबाईल टावर

अभिभावक दिनेश दुबे ने यह भी बताया कि स्कूलो द्वारा की जा रही अनियमितताओं की शिकायत भी कलेक्टर महोदय व जिला शिक्षा अधिकारी से की गई है। आदित्य बिरला पब्लिक स्कूल परिसर में हाई रेडियेशन का मोबाईल टॉवर लगाया गया है जिससे निकलन वाली तरंगे स्कूल में पढने वाले बच्चो के उपर गंभीर विपरीत प्रभाव डाल रही है। जिससे बच्चो के बीमार होने का खतरा कई गुना बढ गया है।

सीईओ ने नहीं सुनी बात

उक्त विषय की जानकारी आदित्य बिरला स्कूल समुह शिक्षा विभाग के सीईओ एसएल गांगुली को अभिभावक दिनेश दुबे, महेन्द्रसिंह शेखावत, संतोष खटोड एवं प्रदीप देवल द्वारा आज लिखित में भी दी गई थी लेकिन गांगुली द्वारा शिकायत को ना लेते हुए यह कहा गया कि यह मेरा क्षैत्राधिकार नहीं है। इस संदर्भ में निर्णय लेने का अधिकार स्थानीय प्रबंधक को है। समस्त अभिभावकगणो का स्थानीय प्रबंधक से अनुरोध किया है कि स्कूलो द्वारा की गई अवैध फीस वृद्धि को वापस लिया जाये एवं अभिभावकगणो के साथ आर्थिक न्याय किया जाए।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY