नागदा-केरल में निदोष 250 से ज्यादा सनातन धर्मियों के हत्या के विरोध...

नागदा-केरल में निदोष 250 से ज्यादा सनातन धर्मियों के हत्या के विरोध मे दिया धरना

156
SHARE

Nagda |Mpnews24| केरल के कन्नूर जिले के सीपीएम कार्यकर्ताओं के द्वारा संघ ओर भाजपा कार्यकर्ताओं को प्रताडि़त करने तथा नृशंस हत्याओं तथा उनके घरों पर हो रही हमलों को लेकर राष्ट्रव्यापी आव्हान के तहत बुधवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय चौक पर जनाधिकार समिति के बैनरतले धरना प्रदर्शन हुआ। इस मौके पर केरल की घटनाओं को लेकर वामपंथियों के कृत्य की जमकर आलोचना की गई। यहां एक जनसभा भी हुई। सभा में प्रमुख वक्ताओं ने केरल में तथा विशेषकर कन्नूर जिले में सीपीएम कार्यकर्ताओं के द्वारा किए जा रहे हिंसक हमले पर सिलसिलेवार प्रकाश ड़ालते हुए कहा कि माक्र्सवादी हिंसा के लंबे ओर पीड़ादायक इतिहास से तो आप स्वयं अवगत है लेकिन फिर भी हिंसक हमलों की घटनाए विगत विधानसभा चुनाव में एक बार फिर तेजी से हुई है और लेफ्ट डेमोके्रेडिट फ्रंड के राज्य में सरकार बनने के बाद तो इस तरह की घटनाओं में अत्यधिक वृद्धि हुई है।
इस मोके पर मुख्य वक्ता शैलेन्द्रसिंह डोडिया ने भी वामपंथियों पर शब्द रूपी तीखे हमले किए। यहां उन्होने संघ की विचाराधारा एवं कार्यक्षेत्र पर भी विस्तार से प्रकाश ड़ाला तथा कहा कि अगर राष्ट्रीय स्वयं संघ नहीं होता तो आज हिंदु समाज कदापि सुरक्षित नहीं रह पाता । जब से संघ की स्थापना हुई है तब से लेकर आज तक के दौर में संघ ने विभिन्न आयामों का गठन कर देशहित एवं समाजहित के कार्यो में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है और उसी की बदौलत हिंदु समाज संगठित होकर संघ के नेतृृत्व में सुरक्षित खड़ा है। इस मौके पर निर्मोही अखाडे के महंत अयोध्यादासजी,अविनाश उपाध्याय, संघ के सुरेश काले, विहिप के भेरूलाल टाक, भाजपा के सीएम अतुल , जनाधिकार समिति के संयोजक राजेन्द्र कांठेड आदि ने सम्बोधित किया। तथा ज्ञापन के माध्यम से केरल सरकार से उचित कार्यवाही करने की मांग भी की है।

एसडीएम के कृत्य की आलोचना

जनाधिकार समिति के द्वारा केरल की घटना को लेकर दिए जाने वाले धरने के मामले को लेकर नागदा एसडीएम की कार्यप्रणाली की भी सभा के माध्यम से आलोचना की गई क्योंकि धरना प्रदर्शन के देश व्यापी आंदोलन के चलते नागदा में दिए जाने वाले धरने व ज्ञापन के मामले में प्रशासनिक अधिकारी न तो तहसीलदार और न ही एसडीएम ज्ञापन लेने के लिए पहुंचे थे । इतना ही धरने के मामले की एसडीएम को सूचना दी गई थी उसको लेकर भी एसडीएम का रूख सकारात्मक नहीं दिखाई दिया जिसकी भी आलोचना यहां वक्ताओं ने की। बाद में थाना प्रभारी अजय वर्मा को महामहिम राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन देना पड़ा।

ये थे मंचासीन

निर्मोही अखाड़े के अंतराष्ट्रीय महंत श्री अयोध्यादासजी, विकट व्यायाम शाला के उस्ताद विक्रमगुरू, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मा.जिला संघचालक सी.जी मोहन , संघ के समग्र ग्राम विकास के विभाग संयोजक शैलेन्द्रसिंह डोडिया,सनातन धर्म जागृत संस्था के संस्थापक अविनाश उपाध्याय(उन्हेल),विहिप के भेरूलाल टाक मंचासीन थे। कार्यक्रम का संचालन राधेश्याम परमार (उन्हेल )ने किया आभार संघ के कजोड़मल अग्रवाल ने माना।

ये थे मौजूद

इस मौके पर संघ के अरूण जैन, अंतरङ्क्षसह पंवार, विशाल बहल, विरेन्द्र सकलेचा,आनंद चौधरी,सुनील जोशी,सोहन उदेनिया, ताराप्रसाद, दिपेश गुर्जर, सुनील शर्मा ,विहिप के अजय जाटवा, मोनू ठक्कर, जगदीश धाकड (उन्हेल),अरूण शिंदे,नपा अध्यक्ष अशोक मालवीय, नपा उपाध्यक्ष सज्जनसिंह शेखावत,भाजपा के मंडल अध्यक्ष राजेश धाकड,नरेन्द्र कोठारी,रामसिंह शेखावत,धर्मेश जायसवाल, ओपी गेहलोत,संदीप व्यास, भवानीङ्क्षसह देवड़ा, हरिश अग्रवाल, सामाजिक कार्यकर्ता हरचरण चावला, अभय चोपड़ा, उन्हेल मंडल अध्यक्ष नंदराम धाकड,भेरूलाल जैन(उन्हेल),राजेन्द्र गुप्ता(उन्हेल)आदि बड़ी संख्या में हिंदु समाजजन एवं मातृशक्ति प्रमुख रूप से मौजूद थी।