Featured नागदा

नागदा सहकारी साख संस्था के अध्यक्ष चुने गये बालेश्वर दयाल जायसवाल

Nagda|MPnews24| नागदा सहकारी साख संस्था मर्यादित नागदा के चुनाव में संस्था के संस्थापक अध्यक्ष बालेश्वर दयाल जायसवाल को एक बार फिर निर्विरोध अध्यक्ष चुना गया है। इससे पूर्व संपन्न हुए ११ सदस्यीय संचालक मण्डल के चुनाव में संचालकों को भी निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया था। निर्वाचन अधिकारी आर.एल परमार के मागर्दशन में आयोजित संस्था के चुनाव में श्री जायसवाल के अध्यक्ष चुने जाने पर नवनिर्वाचित संचालकों व संस्था के सदस्यों ने हर्ष व्यक्त किया है। संस्था के उपाध्यक्ष प्रशांत मेहता एवं संदीप कांठेड चुने गये है।

१८ सौ रूपये की अंश पुंजी से प्रारंभ संस्था का टर्न ओवर पहुँचा २२ करोड रूपये प्रतिवर्ष

अध्यक्ष चुने जाने पर श्री जायसवाल ने संस्था की उत्तरोत्तर प्रगति की बात कहते हुए बताया कि २० वर्ष पूर्व जिन उद्देश्यों को लेकर संस्था का गठन १८०० रूपये नाम मात्र अंश पुजी व चंद सदस्यों को शामिल कर किया गया था। उसी संस्था का टर्न ओवर आज २२ करोड रूपये सालाना पहुँच चुका है। ४ करोड से अधिक राशि बैंक में धरोहर के रूप में डिपॉजिट है। श्री जायसवाल ने बताया कि ब्याजखोरों के चंगुल से जरूरतमंदों, सर्वहारा वर्ग के लोगों को मुक्त कराने तथा आसान ब्याजदर व किश्तों पर आवश्यकतानुसार उन्हें ऋण उपलब्ध कराने के साथ-साथ लोगों की आवश्यकताओं के लिए उनकी बचत क्षमता बढाने को लेकर उन्होंने चंद साथियों के साथ संस्था का संचालन आरंभ किया गया था। नागरिकों, व्यापारियों ने भी उनकी इस मंशा पर भरोसा व्यक्त करते हुए बीते वर्षो में संस्था को भरपुर योगदान दिया। उसी का परिणाम है कि आज संस्था उत्तरोत्तर प्रगति कर रही है।

संचालक मण्डल में यह हैं शामिल

संस्था के संचालक के रूप में सामान्य वर्ग से अध्यक्ष श्री जायसवाल के अलावा कमलेश जायसवाल, संदीप कांठेड, अजय राठी, नरेन्द्र रघुवंशी, कृष्णकांत जायसवाल, प्रिती जायसवाल व प्रशांत मेहता तथा महिला सामान्य वर्ग से राधादेवी राठोड, अजा महिला वर्ग से माया जगदीश चुने गये। जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के प्रतिनिधि के रूप में कृष्णकांत जायसवाल तथा जिला सहकारी संघ उज्जैन के प्रतिनिधि के रूप में अजय राठी चुने गये हैं। निर्वाचित पदाधिकारियों का संस्था कार्यालय पर सोमवार को संचालकों के अलावा प्रबंधक सय्यद नजमुल हसन व अन्य कर्मचारियों ने पुष्पमालाऐं पहना कर स्वागत किया।